खरी-खरी

सुंदर चेहरे पर खौफ के निशान… मुख्यमंत्रीजी गले लगाकर ढांढ़स बंधाइए… कल को हम देख चुके…आज का दर्द मिटाइए

इंदौर कल, आज और कल… का आईना दिखाने के लिए मुख्यमंत्री आज मजमा जुटाएंगे… शहर के प्रबुद्धजनों को बुलाएंगे, अपनी बात आम लोगों तक पहुंचाएंगे… कल की कांग्रेस की बिगड़ी तस्वीर दिखाएंगे और भाजपा की बनाई तदबीर का आईना बताएंगे… बीतें सालों में भाजपा ने शहर को अंधेरे से निकाला… उजाले की ओर बढ़ाया… सडक़ों […]

खरी-खरी

जनता क्यों नहीं चुनती राष्ट्रपति

न हम राष्ट्रपति चुनते हैं न प्रधानमंत्री… राष्ट्रपति हम पर थोपे जाते हैं और पसंद के प्रधानमंत्री के लिए अनचाहे सांसदों को जिताते हैं…हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्था ही ऐसी है, जिसमें तंत्र कमजोर है और लोग मजबूर…जनता यदि मोदी को चाहे तो उनके दल के सांसद को जिताएं और पार्टी जिसे राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाए उसे […]

खरी-खरी

भाजपा को नवाजो… संघ को साधो…

संघ साधे सब सधे… संघ ना सधे तो मुश्किल हो जाए …एक वक्त था जब संघ सत्ता से दूर रहता था…सेवा कार्य तक सीमित रहता था… वंदे मातरम् और सभ्यता तथा संस्कृति का देशभर में प्रचार करते हुए, अपनी पैठ रखता था… वो जनसंघ की विचारधाराओं का सशक्त प्रहरी हुआ करता था… लेकिन राजनीति से […]

खरी-खरी

देश जलाओगे तो कैसे नायक कहलाओगे…

सौगात है अधिकार नहीं… चार साल सेना में रहोगे तो देशप्रेम समझ में आएगा… जीवन अनुशासन से भर जाएगा… शरीर लोखंड की भांति मजबूत हो जाएगा… आत्मविश्वास और कुछ कर गुजरने का जज्बा उस उम्र में आ जाएगा, जिस उम्र को लडक़े खिलंदड़ मानते हैं… कॉलेजों की गलियों में चक्कर लगाते हैं…चाय-सुट्टे की दुकान पर […]

खरी-खरी

चौंक गए ना इंदौरियों…उनका काम है चौंकाना… और तुम्हारा काम है उनके चयन पर मोहर लगाना

जो चर्चित नहीं होते हैं वो चौंकाते हैं… और जो चौंकाते हैं वो तब तक इस भ्रम को पालते हैं, जब तक उनके सामने जनता के चौंकाने वाले फैसले नहीं आते हैं…अतिउत्साह और जबरदस्त आत्मविश्वास से भरी भाजपा ने जिस-जिस नाम को आजमाया जनता ने उसके आगे सर झुकाया… फिर वो सांसद शंकर लालवानी हों […]

खरी-खरी

एकता का पैगाम आया… भागवत के ‘मोहन’ सुरों ने नफरत को मिटाया तो भाजपा ने भी दो वाचालों को घर पर बिठाया…

मत कुरेदो जख्म मवाद बह जाएगा…बरसों से दफन है दर्द चीखों में बदल जाएगा…देश में उठते नफरत के गुबार…मस्जिदों में शिवलिंग खोजती निगाहें और एक वर्ग की बढ़ती उत्तेजना, द्वेष और विद्वेष की आग पर जहां एक दिन पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत ने पानी डालते हुए साफ कर दिया कि न वो ज्ञानवापी विवाद […]

खरी-खरी

जाहि विधि राखे शाह ताहि विधि रहिए… दिन-रात बस मोदी-मोदी कहिए

चौंकिए नहीं, सोचिए…देश में एक ऐसा राजनीतिक दल स्थापित हो चुका है, जिसके फैसले से जनता चकित हो जाए…उसके अपने नेता सर झुकाएं…कहीं कोई विरोध नजर नहीं आए…उम्मीद लगाने वाले निराश नजर आएं और सड़क का कार्यकर्ता शिखर पर पहुंच जाए…फिर वो अपने पिता के साथ समर्पण की सीढ़ियां चढ़ती कविता पाटीदार हो या मुफलिसी […]

इंदौर खरी-खरी

हमें इंदौरियत पर गर्व है तो गर्व भी इंदौर जैसे शहर से गौरवान्वित

क्यों न हो हमें गर्व कि हम इंदौरवासी हैं… जिस शहर में संस्कार हो… सम्मान हो, सदाशयता हो, सामूहिकता हो, विश्वास हो, विकास हो, विन्यास हो और सबसे बड़ी बात कि तरक्की की जिद और स्वस्थ स्पर्धा हो वो शहर विकास का शिखर कैसे नहीं पाएगा…हम अपनी रेखाएं खुद खींचना जानते हैं…हर अच्छाई को अपनाते […]

खरी-खरी

मोदीजी की मौत मारा गया चार दशकों का आतंक

आतंक को पनाह… पलते रहे गुनाह… 42 सालों तक भारत माता की धरती को छलनी करने वाला गुनहगार यासिन मलिक अब जाकर सींखचों में कैद किया जाता है… कानून अब उसे मुजरिम ठहराता है… कई घरों को तबाह करने वाला…कई जिंदगियों को छीनने वाला…देश के स्वर्ग कश्मीर को नर्क बनाने वाला…आतंक का पर्याय बनकर कश्मीर […]

खरी-खरी

अब बेबस नारियों की इज्जत नहीं लूट सकेगी पुलिस

स्वयं पर स्वयं का अत्याचार और दुनिया कहती व्यभिचार…खुद को बेचने की विवशता से गुजरती नारी के दर्द की इंतेहा पर इंसाफ को तरस आया…सर्वोच्च न्यायालय के एक फैसले ने लाज लुटाती और पुरुष समाज के देह की भूख मिटाती नारियों को पकडऩे-धकडऩे, शर्मसार करने पर पाबंदी लगाते हुए पुलिस और कानून को उन्हें जलील […]