खरी-खरी ब्‍लॉगर

खाली झोली में दया का खजाना…

कोरोना का कहर… खाली खजाना… फिर भी दयालू होकर खजाना लुटाना… मध्यप्रदेश की सरकार ने घरेलू अत्याचारों की शिकार महिलाओं के लिए आर्थिक सहायता के द्वार खोलकर उस दर्द को साझा करने की कोशिश की, जिसके चलते लुटती-पिटती, जख्म खाती, आंसू बहाती महिलाएं केवल छत और रोटी की मजबूरी में शोषण का शिकार हो रही […]

खरी-खरी ब्‍लॉगर

शिवराज ने विश्वास के कालीन बिछाए, तो योगी ने उपेक्षा के कांटे चुभाए… इसलिए पलायन का बवंडर रोक नहीं पाए…

हठीले योगी…शिव की तरह अपना बनाते तो अपने हुए लोगों को यूं नहीं गंवाते… उत्तरप्रदेश में उठा पलायन का बवंडर उपेक्षा और अविश्वास की वो पीड़ा है, जो कई नेता योगी राज में बरसों से भोग रहे थे…जो भाजपाई थे, उनका रुदन तो दिल में आंसू बहाता रहा… अनुशासन के चलते दर्द जुबां पर न […]

खरी-खरी

अपनेपन का यह कैसा सिला दिया… दीदार को तरसती आंखों को कातिल समझ लिया…

काहे की चूक… जाना था हेलिकॉप्टर से… सडक़ मार्ग से चले गए… भनक लगी किसानों को…देखने पहुंच गए… जब मोदी की सुरक्षा की जिम्मेदार केंद्रीय एजेंसियों को पता था कि चंद दूरी पर ही पाकिस्तान की सीमा लगती है… मोदी आतंकियों के निशाने पर हैं… फिर उन्हें सडक़ मार्ग से ले जाने की जुर्रत करना […]

खरी-खरी

जिस गांधी की नेता कसमें खाते हैं….वो केवल नोट और वोट पर ही नजर आते हैं…

गांधी पर सवाल… हो गया न बवाल… जुबां खोलने और गांधी के विरोध में बोलने वाले कालीचरण को जेल में ठूंस दिया गया… गोड़से की तारीफ करने की हिमाकत को जी-भरकर नोंचा गया… कांग्रेसी पुतले जला रहे हैं और भाजपाई हाथ ताप रहे हैैं… कांग्रेसी इनाम रखकर गांधी पर निष्ठा जता रहे थे तो भाजपाई […]

खरी-खरी ब्‍लॉगर

जब तालिबान डराएगा तब अपने गिरेबां का गर्व नजर आएगा

अब तो समझो इस देश को…देश के परिवेश को…आजाद जिंदगी… आजाद ख्यालात…आजाद सरजमीं… आजाद रहन-सहन… अपनी सरकार, अपना मताधिकार… अपनी रियासत, अपनी सियासत…अपना धर्म, अपना मजहब… और मजहब की आजादी… चाहे जैसे रहते हैं, चाहे जैसा पहनते हैं… फिर क्यों जेहाद-जेहाद करते हैं… तालिबान ने किया क्या है… शरीयत कानून ही तो लागू किया है…जो […]

खरी-खरी जीवनशैली देश पहेली

आखिर जेल में कैदियों को क्यों दी जारी है एक जैसी यूनिफॉर्म, हम आपको इसके बारे में बताएंगे

  नई दिल्ली। आपने कई ऐसी फिल्में देखी होगी, जिसमें जेल (Jail) का सीन होगा. जेल में मौजूद लोग अक्सर सफेद और काली धारी वाली यूनिफॉर्म (uniform) में दिखते हैं. सभी ड्रेस एक जैसी होती है, जैसे वे किसी सेना (Army) या स्कूल (School) में भर्ती हों. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर […]

खरी-खरी ब्‍लॉगर

चिराग यूं ही बुझते रहेंगे

जिस चिराग को अनुभव का तेल न मिले… जो चिराग ठोकरों की आग में न तपेे… जिस चिराग को चापलूसी की बाती रोशन करे… वो चिराग भला कब तक रोशन रहे… पासवान की हथेली का चिराग भी कुछ ऐसी ही कच्ची माटी और बुझी बाती के साथ रोशन होने की जिद कर रहा था… उसे […]

खरी-खरी ब्‍लॉगर

हम आत्मनिर्भरता की गाड़ी चलाएं… और आप टायर पंक्चर कर बहादुरी दिखाएं…

देश को आत्मनिर्भर बनाएंगे… अपना बनाएंगे… अपना खाएंगे… भूखे मर जाएंगे, पर किसी के आगे हाथ नहीं फैलाएंगे… नारे तो आपने खूब लगवाए… कसमें आपने खूब खिलवाईं… हम भी जोश-जोश में आपके साथ हो गए… चीन की होली जलाई… विदेशियत को ठोकर लगाई… कसम पूरी करने में हमने तो पूरी जान लगाई… लेकिन आपने यह […]

खरी-खरी

हर दर्द पर मरहम लगाया… आक्रोश की आग को स्याही बनाया… तब जाकर अग्निबाण ने स्वरूप पाया…

अग्निबाण का 45वें वर्ष में प्रवेश यह अखबार नहीं जुनून है… यह कलम की स्याही नहीं जमानेभर के दिलों का खौलता खून है… जहां लोग मायूस हो जाते हैं… आक्रोश से फडफ़ड़ाते हैं… व्यवस्थाओं पर गुर्राते हैं… मनमानी पर बौखलाते हैं… जुल्म और ज्यादती को सह नहीं पाते हैं… लेकिन कुछ कर नहीं पाते हैं, […]

खरी-खरी

अनाथों के नाथ… मरते मरीजों के लिए बन जाइए जगन्नाथ

    मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चों के लिए पेंशन योजना का ऐलान करने के साथ ही बेसहारा हुए लोगों को नौकरी दिए जाने और काल के गाल में समाए सरकारी कर्मचारियों के बच्चों को अनुकम्पा नियुक्ति में लगाने की घोषणा कर कई परिवारों पर टूटे गम के […]