दिल और फेफड़ों के को स्‍वास्‍थ्‍य रखना है तो ये योगासन होगें फायदेमंद

नए साल का आगाज हो चुका है। इस वर्ष लोगों की प्राथमिकता अपनी सेहत पर है। खासकर कोरोना वायरस काल में संकटमय जीवन गुजारने के बाद लोगों में सेहत को लेकर जागरूकता बढ़ी है। अस्थमा, फेफड़ों से संबंधित रोग, डायबिटीज, मोटापा, हार्ट अटैक और उच्च रक्तचाप ऐसी बीमारियां हैं, जिनका सीधा संबंध कोरोना वायरस और इम्यून सिस्टम से है।

विशेषज्ञों की मानें तो सेहतमंद रहने के लिए इम्यून सिस्टम का मजबूत होना अनिवार्य है। इनसे बचने के लिए लोगों को खानपान और दिनचर्या पर विशेष ध्यान देना चाहिए। खासकर सर्दियों में वायु प्रदुषण के बढ़ने से सांस संबंधी बीमारियां का खतरा बढ़ जाता है। इसके लिए योग का सहारा लिया जा सकता है। अगर आप भी फेफड़ों को स्वस्थ और मजबूत रखना चाहते हैं और निमोनिया के प्रभाव को कम करना चाहते हैं, तो रोजाना इन योगासन को जरूर करें। आइए जानते हैं-

‘सावित्री आसन’ (Savithri asana) करें
घुटनों को जमीन के बल कर अपने शरीर का पूरा भार घुटनों पर दें। शरीर सीधा रखें। अब थोड़ा वार्म अप करें और फिर अपने हाथों को लहराकर उपर की ओर रखें। दोनों हाथों के बीच दूरी रखें। वहीं, नजर उपर की ओर रखें। इस मुद्रा में कुछ देर तक रहें। इसके बाद पुन: पहली मुद्रा में आ जाएं।

भस्त्रिका प्राणायाम करें
भस्त्रिका प्राणायाम करने से शरीर में ऑक्सीजन का संचार तीव्र गति से होता है। जबकि कार्बन डाईऑक्साइड का स्तर कम होता है, जिससे हृदय रोग दूर होता है। इस योग को करने से गले से संबंधित सभी तकलीफें खत्म हो जाती हैं। इसके लिए स्वच्छ वातावरण में पद्मानस की मुद्रा में बैठ जाएं। इसके बाद अपनी गर्दन और रीढ़ की हड्डी को एक सीध में रखें। शरीर झुका और ढीला-ढाला न हो। इसके बाद लंबी सांसे लें और फेफड़ें में वायु को भर जाने दें। इसके बाद एकबार में तेज़ी से सांस छोड़ें। इस आसन को एक बार में कम से कम दस बार जरूर करें।

उष्ट्रासन (Ustrasana) करें
‘सावित्री आसन’ में आ जाएं। इसके बाद शरीर को पीछे की ओर मोड़कर दोनों हाथों को अपने टखनों पर रखें। एक चीज़ का ध्यान रखें कि अपने गर्दन को न घुमाएं, बल्कि गर्दन को प्राकृतिक अवस्था में रहने दें। कुछ पल के लिए इस अवस्था में रहें। अब हाथों को हटाकर पहली अवस्था में आ जाएं। इस अवस्था में ज्यादा देर तक न रहें।

हस्त उत्तानासन (Hastha Uthanasana) करें
सूर्य नमस्कार की मुद्रा में आ जाएं। इसके बाद अपने हाथों को ऊपर की तरफ उठाएं और पीछे तरफ ले जाएं। इस दौरान अपने शरीर को भी बैंड करें। वहीं, शरीर सीधा और आंखें खुली रखें।

नोट – उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य जानकारी के लिए हैं इन्‍हें किसी प्रोफेशनल डॉक्‍टर की सलाह के रूप में न समझें । कोई भी बीमारी या परेंशानी हो तो डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें ।

Agniban

Next Post

कतर में 2022 में होने वाला विश्व कप शानदार होगा : राबी फालर

Wed Jan 13 , 2021
दोहा। लिवरपूल के पूर्व स्ट्राइकर रोबी फालर फुटबाल के उन सितारों में से एक हैं, जो कतर में साल 2022 में होने वाले फीफा विश्व कप का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। कतर ने एशिया में दूसरी बार और मध्य-पूर्व में पहली बार होने जा रहे इस आयोजन के […]

Know and join us

news.agniban.com

month wise news

January 2021
S M T W T F S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31