देश की ऑटो निर्माता कंपनियां तैयार कर रही हैं वेटिंलेटर और एन95 मास्क

नई दिल्ली । कोविड19 के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने विदेशों से भी वेंटिलेटर और एन मास्क मंगवाए हैं। इसके अलावा देश के नामी ऑटो निर्माता कंपनियां वेंटिलेटर्स का निर्माण कर रही हैं। जिसमें मारुति और महिंद्रा शामिल हैं। साथ ही एन 95 मास्क और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों (पीपीई) तैयार करने के लिए 11 घरेलू निर्माताओं को चिन्हित किया गया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के मुताबिक पीपीई के लिए स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय और कपड़ा मंत्रालय एक साथ मिल कर काम कर रहे हैं। पीपीई के निर्माण के लिए अब तक 11 निर्माताओं को मंजूरी दे दी गई है। वे 21 लाख पीपीई कवरल के बना कर देंगे। वर्तमान में कंपनियां प्रति दिन 6–7,000 कवरॉल की आपूर्ति कर रहे हैं और अगले हफ्ते तक 15,000 प्रति दिन आपूर्ति की जाने की उम्मीद है। मंत्रालय द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार देश भर के विभिन्न अस्पतालों में 3.34 लाख पीपीई उपलब्ध हैं। भारत सरकार द्वारा लगभग 60,000 पीपीई किट पहले ही खरीद और आपूर्ति की जा चुकी है। भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी ने चीन से 10,000 पीपीई की व्यवस्था कर मंत्रालय को दिए हैं। इसके अलावा 4 अप्रैल तक 3 लाख दान किए गए पीपीई कवरल आने हैं।

सिंगापुर, कोरिया से खरीदें जाएंगे पीपीई किट
पीपीई किट के आयात के लिए दूसरे देशों के साथ विदेश मंत्रालय के माध्यम से संपर्क किया जा रहा है। इस प्रयास के तहत सिंगापुर स्थित ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की पहचान की गई है, जो 10 लाख पीपीई किट की आपूर्ति कर सकता है। इसके साथ कोरिया में स्थित कंपनी जिसकी वियतनाम और तुर्की में उत्पादन कंपनियों के साथ टाईअप है। इस कंपनी से 20 लाख पीपीई किटों की आपूर्ति के लिए विदेश मंत्रालय के माध्यम से आदेश दिए गए हैं।

दो घरेलू कंपनियां कर रही हैं एन95 मास्क का निर्माण
देश की दो घरेलू कंपनियां एन95 मास्क का निर्माण कर रही हैं। वे इस समय प्रति दिन 50,000 मास्क की आपूर्ति कर रही हैं लेकिन आने वाले सप्ताह में कंपनियां एक लाख मास्क बनाने की क्षमता हासिल कर लेंगी। इसके साथ डीआरडीओ स्थानीय निर्माताओं के साथ मिलकर प्रति दिन लगभग 20,000 एन99 मास्क का उत्पादन कर रहा है। मौजूदा समय में देश के अस्पतालों में 11.95 लाख एन 95 मास्क स्टॉक में हैं। पिछले दो दिनों में 5 लाख मास्क वितरित किए जा चुके हैं और 1.40 लाख मास्क 30 मार्च को वितरित किए गए हैं। इसके अलावा आने वाले दिनों में सिंगापुर से 10 लाख मास्क मंगवाए गए हैं, जो पीपीई किट का हिस्सा होंगे।

अब तक केवल 20 कोविड के मरीजों को वेंटिलेटर की जरुरत
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक के सभी कोविड के मामलों में सिर्फ 20 मरीजों को ही वेंटिलेटर की आवश्यकता पड़ी है। लेकिन आने वाले दिनों के लिए वेंटिलेटर मंगवाए जा रहे हैं। मौजूदा समय में देश भर के विभिन्न अस्पतालों में 14,000 से अधिक वेंटिलेटर हैं। वेंटिलेटर खरीदने के लिए नोएडा स्थित घरेलू निर्माता एगा हेल्थकेयर से संपर्क किया गया है। इस कंपनी को 10,000 वेंटिलेटर का ऑर्डर दिया गया है। अप्रैल के दूसरे सप्ताह तक आपूर्ति शुरू होने की उम्मीद है। इसके अलावा, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड पर 30,000 वेंटिलेटर का ऑर्डर दिया गया है। इसके साथ वेंटिलेटर की आपूर्ति करने के लिए हैमिल्टन, माइंड्रे और ड्रेगर जैसी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों पर आदेश दिए गए हैं।

Shar­ing is car­ing!

agniban

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वित्त वर्ष 2019-20 में नहीं किया गया कोई बदलाव: वित्‍त मंत्रालय

Tue Mar 31 , 2020
- भारतीय स्टाम्प अधिनियम संशोधन की अधिसूचना को गलत तरीके से किया गया प्रचारित नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस की महामारी और 21 दिनों के लॉकडाउन के बीच वित्त मंत्रालय ने सोमवार देर रात ट्वीट करके जानकारी दी है कि वित्त वर्ष 2019–20 को आगे बढ़ाने का कोई फैसला अभी नहीं […]