इंदौर: गुंडों के अवैध कब्जों पर कार्रवाई जारी, ढहाया शेख मुख्तियार का अतिक्रमण

इंदौर। गुंडों और माफियाओं द्वारा किए गए अवैध कब्जों पर नगर निगम और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई शनिवार को भी जारी है। शुक्रवार को यौन शोषण के आरोपित प्यारे मियां का लालाराम नगर स्थित घर गिराया गया था। वहीं, शनिवार सुबह नगरनिगम की टीम ने शेख मुख्तियार के अवैध कब्जे को जमींदोज कर दिया। जिला प्रशासन और पुलिस के साथ मिलकर नगरनिगम टीम ने विजय नगर थाना क्षेत्र में शेख मुख्तियार द्वारा किए गए अवैध कब्जों को जमींदोज कर दिया। 
नगरनिगम के सूत्रों के अनुसार इस कार्रवाई की तैयारी शुक्रवार रात से ही शुरू कर दी गई थी। निगम का मदाखलत दस्ते के कर्मचारी शनिवार सुबह एलआइजी लिंक रोड चौराहा पर इकट्ठा हुए। उनके साथ तोड़फोड़ के लिए पोकलेन मशीन और बुलडोजर भी थे। सबसे पहले समीपस्थ राधिका कुंज में शेख मुख्तियार के ग्रीन बेल्ट पर बने गोदाम और दुकानों को निगम के बुलडोजर ने ध्वस्त कर दिया। पहले भी निगम मुख्तियार के अवैध कब्जों पर कार्रवाई कर चुका है, लेकिन उसने वहां दोबारा कब्जे कर लिए थे। कार्रवाई के दौरान निगम के अपर आयुक्त देवेंद्र सिंह, उपायुक्त लता अग्रवाल और सहायक रिमूवल अधिकारी बबलू कल्याणे भी पुलिस बल और निगमकर्मियों के साथ मौजूद थे।
गौरतलब है कि पुलिस और नगर निगम ने पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्र के सात-सात ऐसे गुंडे चिह्नित किए हैं, जिन पर कई गंभीर अपराध दर्ज हैं। इससे पहले साजिद चंदनवाला, जीतेंद्र उर्फ नानू तायड़े, अरुण वर्मा, लकी वर्मा, प्यारे मियां और अश्विन सिरोलिया के अवैध निर्माण व अतिक्रमण तोड़े जा चुके हैं। आगामी आदेश तक कार्रवाई लगातार चलेगी। प्रदेश के भोपाल व ग्वालियर समेत सभी बड़े शहरों में राज्य सरकार के निर्देश पर गुंडों के अवैध निर्माण और अतिक्रमण तोड़ने की मुहिम चलाई जा रही है।(हि.स.)

Next Post

Jio के इन प्रीपेड पैक्स में बंपर बेनेफिट्स, ये हैं सबसे धांसू 5 रिचार्ज प्लान्स

Sat Nov 21 , 2020
नई दिल्ली। Reliance Jio हाल ही में भारत का सबसे बड़ा टेलिकॉम सर्विस प्रोवाइडर बन गया है। जियो पहली टेलिकॉम कंपनी है जिसके पास 400 मिलियन से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं। जियो ने भारतीय टेलिकॉम बाजार में एंट्री करते ही काफी पॉप्युलैरिटी हासिल कर ली थी। तो आइए जानते हैं कि […]

Know and join us

news.agniban.com

month wise news

November 2020
S M T W T F S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930