आज मनाया जाता है लोहड़ी का त्‍यौहार, जानिए धार्मिक कथा और महत्‍व

नववर्ष 2021 में लोहड़ी का त्योहार आज 13 जनवरी दिन बुधवार को हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। लोहड़ी मुख्यत: पंजाब, हरियाणा में मनाई जाती है, लेकिन उत्तर भारत में भी इसका उत्सव होता है। लोहड़ी का त्योहार मकर संक्रांति से एक दिन पूर्व मनाया जाता है। इस दिन शाम के समय में आग जलाकर उसमें अन्न डाले जाते हैं, फिर फसल की कटाई शुरु होती है। इस समय गेहूं की नई फसल तैयार होती है। उनकी ही बालियों को तोड़कर सबसे पहले आग में अर्पित किया जाता है। लोहड़ी के दिन लोग भांगड़ा और गिद्दा नृत्य करते हैं और उत्सव मनाते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि मुगलकाल के समय पंजाब का एक व्यापारी था जो वहीं की लड़कियों और महिलाओं को बेचा करता था। वह यह सब पैसे के लालच में करता है। उसके इस कृत्य से हर कोई परेशान और भयभीत था। उसके इस आतंक से इलाके में हमेशा ही दहशत का माहौल रहता था। उसके डर से कोई भी अपनी बहन-बेटियों को घर से बाहर नहीं निकालता था। लेकिन वो व्यापारी मानने वाला कहां था। वह जबरन घरों में घुसकर जबरन महिलाओं और लड़कियों को उठा लिया करता था।

व्यापारी के आतंक को खत्म करने और महिलाओं और लड़कियों को इससे बचाने के लिए एक नौजवान शख्स ने जिसका नाम दुल्ला भाटी था, उस व्यापारी को कैद कर लिया। उसके बाद व्यापारी की हत्या कर दी। उस व्यापारी की हत्या करने और लोगों को उसके आतंक से बचाने के लिए दुल्ला भाटी का शुक्रिया पूरे पंजाब ने अदा किया। तभी से लोहड़ी का पर्व दुल्ला भाटी के याद में मनाया जाने लगा। इस दिन कई लोकगीत भी गाए जाते हैं।

लोहड़ी को नई फसल की कटाई तथा सर्दी के समापन का प्रतीक भी माना जाता है। इस दिन से सर्दी कम होने लगती है, वातावरण का तापमान बढ़ने लगता है। लोहड़ी के दिन लोग नए कपड़े पहनते हैं। एक दूसरे को बधाइयां एवं शुभकामनाएं देते हैं।

लोहड़ी का अर्थ
लोहड़ी को तिलोड़ी भी कहा जाता है। यह तिल और गुड़ की रोड़ी से मिलकर बना है। इस दिन तिल और गुड़ खाने का महत्व है। इस दिन लोग एक दूसरे को तिल और गुड़ की बनी रेवड़ी देते हैं।

लोहड़ी उत्सव
शाम के समय में आग जलाई जाती है। फिर लोग उस आग के चारो ओर एकत्र हो जाते हैं और उसकी परिक्रमा करते हुए उसमें रेवड़ी, खील, मूंगफली आदि डालते हैं। फिर बाद आग के पास बैठकर गज्जक, रेवड़ी आदी खाते हैं। इस दिन भोजन में मक्के की रोटी और सरसों के साग को खाने का भी प्रचलन है।

पंजाब में इस त्योहार की अलग ही रौनक देखने को मिलती है। जिन लोगों का विवाह हुआ होता है या उनकी संतान हुई होती है, तो उनकी पहली लोहड़ी को विशेष माना जाता है। नवदंपत्तियों को ​विशेष रूप से बधाइयां दी जाती हैं। लोहड़ी के दिन पंजाब में बहुएं लोकगीत गाती हैं और लोहड़ी मांगती हैं। लोक गीत में दुल्ला भट्टी के गीत गाए जाते हैं।

दुल्ला भट्टी के बिना अधूरी है लोहड़ी
ऐसी मान्यता है कि मुगलकाल में दुल्ला भट्टी नाम का एक लुटेरा था। वह हिन्दू लड़कियों को गुलाम के तौर पर बेचने का ​विरोध करता था। वह उनको आजाद कराकर हिन्दू युवकों से विवाह करा देता था। लोहड़ी के दिन उसके इस नेक काम के लिए गीतों के माध्यम से उसका आभार जताया जाता है।

Agniban

Next Post

UP : रिटायर्ड लेखपाल ने नशीला पदार्थ पिलाकर किया 36 बच्चों का यौन शोषण

Wed Jan 13 , 2021
उत्तर प्रदेश में उरई के रिटायर्ड लेखपाल ने 36 बच्चों के साथ हैवानियत की। नशीला पदार्थ पिलाकर वह बार-बार इनसे हैवानियत करता रहा, दो बच्चों के रिपोर्ट लिखाने के बाद सनसनीखेज मामला सामने आया। उरई के कोंच से भगत सिंह नगर निवासी रियार्ड लेखपाल राम बिहारी के खिलाफ मोहल्ले के […]

Know and join us

news.agniban.com

month wise news

January 2021
S M T W T F S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31