खासगी संपत्तियों को लेकर सनसनीखेज खुलासा

  • 285 साल पहले लूट और आक्रमण से मिली दौलत कहलाई खासगी जागीर
  • 160 करोड़ की थी तब खासगी सम्पत्तियां

इंदौर। देशभर में अरबों रुपए की खासगी ट्रस्ट की सम्पत्तियों को बचाने का इंदौर हाईकोर्ट ने 118 पेज का ऐतिहासिक फैसला सुनाया है, जिसके चलते सभी सम्पत्तियां अब मध्यप्रदेश सरकार की हो जाएगी और ट्रस्ट द्वारा की गई डीड को भी हाईकोर्ट ने शून्य कर दिया है। यह भी रौचक जानकारी है कि खासगी ट्रस्ट बना कैसे…

Also Read: खासगी सम्पत्तियों की बिक्री में सरकार के नुमाइंदे भी शामिल रहे

दरअसल 1732 में पुणे में छत्रपति शिवाजी महाराज के पोते छत्रपति साहूजी महाराज का शासन था, जिसे पेशवा नियुक्त किया जा चुका था और पेशवा की संधी के तहत इंदौर व मालवा की सुबेदारी होलकरों को सौंपी गई और महाराजा होलकर को इंदौर का सुबेदार बनाया एवं धार में पंवारों और उज्जैन में सिंधियाओं को सुबेदारी दी गई। राजमहल और राज परिवार की सुविधाओं के खर्च के अलावा दान-धर्म के लिए पैसे की व्यवस्था करने के लिए महारानी गौतमबाई ने पेशवा से इसकी शिकायत की और तब इस समस्या को साहू जी महराराज ने गंभीरता से लिया और एक निधि स्थापित की, जिसे खासगी दौलत या खासगी जागीर नाम दिया गया। इसमें लूट और आक्रमण से मिली दौलत इसमें शामिल होती थी।

 

Next Post

रिपोर्ट में खुलासाः पोस्टमॉर्टम से कितने घंटे पहले हुई थी सुशांत की मौत

Tue Oct 6 , 2020
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट को लेकर जो सवाल थे, उनके जवाब फॉरेंसिक एक्सपर्ट की रिपोर्ट के बाद सामने आ गए हैं। जांच में पता चला है कि पोस्टमॉर्टम से करीब 10 से 12 घंटे पहले ही सुशांत की मौत हो चुकी थी। इस […]

Know and join us

news.agniban.com

month wise news

January 2021
S M T W T F S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31