US चुनाव: रिजल्ट पलटने के लिए शक्तियों का इस्तेमाल कर रहे ट्रंप

अमेरिकी पॉलिटिक्स में आए दिन कुछ नया देखने को मिल रहा है. चुनाव में भले ही जो बाइडेन की जीत हुई है, लेकिन डोनाल्ड ट्रंप लगातार चुनावी नतीजों को चैलेंज कर रहे हैं. हार स्वीकार न करने वाले ट्रंप को अभी भी लग रहा है कि वो बाइडेन के मुंह से जीत छीन सकते हैं. आइए जानते हैं ट्रंप किन पैंतरों से चुनाव परिणाम अपने पक्ष में करने की सोच रहे हैं. ट्रंप चुनाव नतीजे सर्टिफाई होने से रोकने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन इसमें उन्हें अभी तक कामयाबी नहीं मिल पाई है. मिशिगन और जॉर्जिया जैसे बैटलग्राउंड राज्यों ने चुनाव सर्टिफाई कर दिया है. मिशिगन में वेन काउंटी में चुनाव सर्टिफिकेशन रोकने के लिए ट्रंप कैंपेन ने केस दायर किया था. काउंटी के बोर्ड ऑफ कैनवासर्स में दो रिपब्लिकन और दो डेमोक्रेटिक सदस्य हैं. रिपब्लिकन सदस्यों ने पहले मना किया और फिर बाइडेन की जीत सर्टिफाई कर दी. लेकिन इसके बाद वो फिर पलट गए. हालांकि, अब उनके विरोध का कोई मतलब नहीं है. जॉर्जिया ने भी चुनाव सर्टिफाई कर दिया है. राज्य में रिकाउंटिंग हुई थी और उसके बाद बाइडेन को ही विजेता पाया गया. जॉर्जिया के रिपब्लिकन सेक्रेटरी ऑफ स्टेट ने चुनाव सर्टिफाई किया है और कहा कि ‘आंकड़े झूठ नहीं बोलते.’

टाइम (TIME) की खबर के मुताबिक, ट्रंप अपनी हार को देखते हुये ऑफिस की शक्तियों का प्रयोग करने लगे हैं. ट्रंप के ऑफिस से सेक्रेटरी ऑफ स्टेट अपनी ऑफिशियल डिप्लोमैटिक ट्रिप के दौरान वोटिंग फ्रॉड जैसी आधारहीन बातों का दावा करते हैं. कुछ दिन पहले ही ट्रंप ने व्हाइट हाउस में मिशिगन के लॉ मेकर्स को मिलने आमंत्रित किया था. खबर में यह भी कहा गया है कि ट्रंप की टीम प्रमुख राज्यों में वोट सर्टिफिकेशन में देरी कराने की रणनीति पर भी काम कर रही है. वहीं ट्रंप बड़े स्तर पर फंड राइजिंग का काम भी तेजी से कर रहे हैं. फंड राइजिंग लिस्ट भेजते हुए डोनर्स से अपील की जा रही है कि कानूनी लड़ाई में सहायता करें, लेकिन इस फंड का बड़ा हिस्सा एक नई पॉलिटिकल एक्शन कमेटी के पास जा रहा है. इस कमेटी का नाम सेव अमेरिका है. ट्रंप डोनेशन का इस्तेमाल उन राजनेताओं के कैंपेन में कर सकते हैं जो उनके पक्ष में हैं.

बीबीसी की खबर कहती है कि ट्रंप उन लोगों पर दबाव बना रहे हैं जो इस मामले में प्रभाव रखते हैं कि राज्य किसे राष्ट्रपति के पद के लिए चुने. ट्रंप चुनाव अधिकारियों या राज्य के प्रतिनिधियों पर दबाव बना रहे हैं जो कि अमेरिका चुनाव में पहले कभी नहीं दिखा. UTAH उटाह के सीनेटर मिट रोमनी ने ट्रंप पर आरोप लगाया है कि वह सरकारी अधिकारियों पर दबाव डालकर चुनाव परिणाम और लोगों की इच्छा को पलटने की कोशिश कर रहे हैं. एक्सपर्ट्स का मानना है कि ये विवादस्पद है, लेकिन गैर-कानूनी नहीं.

Next Post

देश की अर्थव्यवस्था में होगी त्वरित रिकवरी: मुकेश अंबानी

Sun Nov 22 , 2020
– मुकेश अंबानी बोले, आने वाले वर्षों में तेज रहेगी विकास दर नई दिल्‍ली/गांधीनगर। भारत कोविड-19 महामारी के खिलाफ अपनी लड़ाई में एक महत्वपूर्ण चरण में प्रवेश कर चुका है। ये बात रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड आरआईएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) मुकेश अंबानी ने कही। उन्होंने कहा कि ऐसे […]

Know and join us

news.agniban.com

month wise news

November 2020
S M T W T F S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930